Website Hosting & Domain in Bhopal

Monday, 26 June 2017

सजर्किल स्ट्राइक से भारत हुआ मजबूत विश्व जगत का समर्थन

सजर्किल स्ट्राइक से भारत हुआ मजबूत विश्व जगत का समर्थन 




प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को वॉशिंगटन में भारतीय समुदाय के लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि तीन साल के कार्यकाल में उनकी सरकार पर एक भी दाग नहीं लगा. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि हम भारत पर आतंकवाद के खतरनाक प्रभावों के बारे में दुनिया को बताने में सफल रहे हैं. उन्होंने 'सजर्किल स्ट्राइक' का जिक्र करते हुए कहा कि आमतौर पर संयम बरतने वाला भारत अपनी संप्रभुता बचा सकता है. हमने अपनी ताकत का अहसास कराया. पीएम मोदी ने कहा,  "सर्जिकल स्‍ट्राइक एक ऐसी घटना थी, अगर दुनिया चाहती तो भारत के बाल नोंच लेती. हमें कटघरे में खड़ी कर सकती थी, हमसे जवाब मांगा जाता. लेकिन आप लोगों ने पहली बार अनुभव किया होगा कि भारत के इतने बड़े कदम पर विश्‍व में किसी ने भी एक सवाल तक नहीं उठाया. जिनको भुगतना पड़ा उनकी बात अलग है. ये इसलिए कि हम दुनिया को समझाने में सफल हुए है कि आतंकवाद का वह रूप है जो हमें परेशान कर रहा है."

पूरे देश में ईद का उत्साह, राजनाथ ने कश्मीरियों को दी बधाई

पूरे देश में ईद का उत्साह, राजनाथ ने कश्मीरियों को दी बधाई


पूरे देश में आज ईद का जश्न मनाया जा रहा है. दिल्ली के जामा मस्जिद से लेकर भोपाल के ईदगाह में ईद की नमाज अता की गई. नमाज के बाद लोगों ने गले मिलकर एक-दूसरे को ईद की बधाई भी दी. दिल्ली के जामा मस्जिद में सुबह-सुबह नमाजियों की भीड़ लगनी शुरू हो गई थी. देश और दुनिया में लोग एक दूसरे को ईद की बधाई दे रहे हैं. इस मौके पर गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कश्मीर के लोगों को ईद की बधाई दी.

परंपरा बन गई है कि वे अघोषित आपातकाल शब्दों का इस्तेमाल : वित्त मंत्री अरुण जेटली

परंपरा बन गई है कि वे अघोषित आपातकाल शब्दों का इस्तेमाल : वित्त मंत्री अरुण जेटली



वित्त मंत्री अरुण जेटली ने भाजपा की मौजूदा सरकार के तहत अघोषित आपातकाल होने की बात कहने वालों की आलोचना करते हुए कहा कि उन लोगों को इस बारे में आत्मावलोकन करना चाहिए कि इंदिरा गांधी के समय लगे आपातकाल के दौरान वे कहां थे.आपातकाल के 42 साल पूरे होने के मौके पर एक फेसबुक पोस्ट में जेटली ने आलोचकों से पूछा कि उन 19 महीनों के दौरान उनका सार्वजनिक रूप से घोषित रूख कहां था. उन्होंने कहा कि भारत में किसी भी सरकार के आलोचकों के लिए यह परंपरा बन गई है कि वे अघोषित आपातकाल शब्दों का इस्तेमाल करें.

बैंक लॉकर में रखें सामान की कोई सुरक्षा गारंटी नहीं

बैंक लॉकर में रखें सामान की कोई सुरक्षा गारंटी नहीं 





आप सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के सुरक्षित जमा बक्सों (लॉकरों) से बेशकीमती वस्तुओं की चोरी या लूट के लिए मुआवजा की उम्मीद मत कीजिए क्योंकि, लॉकर संधि उन्हें सभी देनदारी से मुक्त करती है। यह कड़वी सच्चाई अधिवक्ता कुश कालरा के आरटीआई आवेदन पर भारतीय रिजर्व बैंक और सार्वजनिक क्षेत्र के कई बैंकों के जवाब में सामने आई है।
इस खुलासे से स्तब्ध कालरा अब भारतीय प्रतिस्पर्धा आयोग गए हैं और उन्होंने लॉकर सुविधा के मामले में बैंकों के बीच गुटबंदी तथा गैर प्रतिस्पर्धात्मक पद्धति अपनाने का आरोप लगाया है। उन्होंने आयोग से कहा कि आरटीआई आवेदन के जवाब में रिजर्व बैंक ने कहा कि उसने इस संबंध में कोई स्पष्ट दिशा-निर्देश जारी नहीं किया है और न ही उसने ग्राहक को पहुंचे नुकसान के मूल्यांकन के लिए कोई मानक तय किए हैं। उधर, सभी बैंकों ने भी अपनी जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ लिया है।
19 बैंकों ने जो कारण बताया है वह यह है कि लॉकर के संबंध में ग्राहकों के साथ उनका जो संबंध है वह मकान-मालिक और किरायेदार का है। इन बैंकों में बैंक ऑफ इंडिया, ओरिएंटल बैंक ऑफ कॉमर्स, पंजाब नेशनल बैंक, यूको बैंक, केनरा बैंक आदि शामिल हैं।बैंकों ने दलील दी कि ऐसे संबंध में किरायेदार बैंक के लॉकर में रखे अपनी बेशकीमती वस्तुओं के लिए जिम्मेदार हैं। कुछ बैंकों ने लॉकर लेने संबंधी करार में यह स्पष्ट किया कि लॉकर में रखा गया कोई भी सामान ग्राहक के अपने जोखिम पर है तथा वह उनका बीमा करा सकता है।
जवाब से कालरा ने आयोग से कहा कि लॉकर के लिए बैंक को किराये देने के बजाय बेशकीमती वस्तुओं को बीमा कराकर घर में क्यों न रखा जाए जब वह इन सामग्रियों की जिम्मेदारी लेने को तैयार नहीं है।

पिपरिया में ओवर ब्रिज बनाने में हो रही लापरवाही

पिपरिया में ओवर ब्रिज बनाने में हो रही लापरवाही


पिपरिया--रेलवे गेट पर बन रहे ओवर ब्रिज को बनाने में लापरवाही की जा रही हैं।ब्रिज को जिन पिल्लरों पर खड़ा होना हैं।उनके आसपास गीली मिट्टी में ट्रक एवम् अन्य वाहन रोजाना फंस रहे हैं।वही ठेकेदार सुरक्षा पर कोई धयान नहीं दे रहा हैं।जबकी नियमानुसार निर्माणाधीन पिलरो को टीन की बाउंड्री से सुरक्षित करना चाहिए।परंतु ऐसा नहीं हो पा रहा हैं।वही इस रास्ते से रोजाना स्कूल की एक दर्जन बसें निकला करती हैं।यदी समय रहते सुरक्षा के उपाय नहीं किये गए तो किसी दिन कोई बड़ा हादसा हो सकता हैं।वही इस रास्ते से रोजाना जिम्मेदार अधिकारी और जनप्रतिनिधी निकला करते हैं परंतु प्रभावशाली ठेकेदार के आगे यह कुछ नहीं बोल पा रहे हैं।

भारत अमेरिकी कंपनियों के सीर्इआे को दिया निवेश का न्योता

भारत अमेरिकी कंपनियों के सीर्इआे को दिया निवेश का न्योता



प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिकी यात्रा के दौरान वहां की कंपनियों के कार्यकारियों (सीर्इआे) से मुलाकात के दौरान भारत में आगामी 30 जून की आधी रात से लागू होने वाले वस्तु एवं सेवा कर (जीएसटी) को एक क्रांतिकारी कदम बताया. इसके साथ ही उन्होंने अमेरिकी कार्यकारियों से जीएसटी को व्यापार को आैर सुगम बनाने वाला बताया. अमेरिका की 20 शीर्ष कंपनियों के सीईओ के साथ एक गोलमेज बैठक के दौरान मोदी ने रेखांकित किया कि पिछले तीन साल में राजग सरकार की नीतियों के चलते भारत ने सबसे ज्यादा प्रत्यक्ष विदेशी निवेश को प्राप्त किया है.

भोपाल दुनिया में स्मार्ट सिटी का मापदंड बनेगा

भोपाल दुनिया में स्मार्ट सिटी का मापदंड बनेगा
मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा है कि दुनिया में स्मार्ट सिटी का मापदंड भोपाल स्थापित करेगा। शहर में इसकी पूरी क्षमता और दक्षता मौजूद है। उन्होंने कहा कि नागरिकों ने क्लीन सिटी भोपाल बनाने का जो संकल्प लिया था, सफलतापूर्वक पूरा कर दिखाया है। आज भोपाल देश का दूसरा सबसे स्वच्छ नगर है। श्री चौहान आज स्मार्ट सिटी प्लान की दूसरी वर्षगाँठ पर कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने कहा कि मानवीय संवेदनाओं के साथ स्मार्ट सिटी की व्यवस्थाएँ हों। स्मार्ट व्यवस्थाओं से गरीब का जीवन और पर्यावरण बेहतर हो। झोपड़ी में रहने वाले आवास में रहें। ऐसे प्रयास किये जा रहे हैं। उन्होंने निर्देशित किया कि स्मार्ट सिटी के सभी प्रतीक चिन्ह हिन्दी में भी हों। स्थानीय प्रजातियों के पेड़ लगाये जायें ताकि पर्यावरण में ऑक्सीजन की उपलब्धता बेहतर हो। भावी-पीढ़ी को स्वच्छ पर्यावरण मिले। इसके सभी आवश्यक प्रयास किये जायें।
मुख्यमंत्री श्री चौहान ने साइकिल ट्रेक बनाने के प्रयासों की सराहना करते हुए कहा कि साइकिलिंग से जहाँ एक ओर सेहत बनती है, वहीं पर्यावरण प्रदूषण में भी भारी कमी आती है। उन्होंने गाड़ियों की बढ़ती संख्या को नियंत्रित करने की जरूरत बतायी। एक से अधिक गाड़ी रखने वालों पर वित्तीय भार बढ़ाने के विचार पर चिंतन का सुझाव दिया। उन्होंने कहा कि भोपाल को क्लीन, ग्रीन, हेल्दी हाईटेक और ग्लोबल सिटी बनाने का जो संकल्प लिया गया था, उस दिशा में भोपाल नगर निगम तेजी से कार्य करके दिखा रहा है। स्मार्ट व्यवस्थाओं में गरीबों की बेहतरी के कार्यों के लिये नगर निगम के प्रयासों का अभिनंदन करते हुए निगम की टीम को बधाईयाँ दी।
मुख्यमंत्री ने कहा कि मध्यप्रदेश हर क्षेत्र में प्रगति और विकास कर रहा है। नगरीय विकास में प्रदेश देश में अव्वल है। देश की सौ स्मार्ट सिटी में 22 शहर राज्य के हैं। मध्यप्रदेश का कृषि उत्पादन देश में सर्वाधिक है। प्याज का उत्पादन 32 लाख मेट्रिक टन हुआ है। उन्होंने स्मार्ट सिटी प्लान के प्रारूप को अदभुत बताते हुए कार्य की तेज गति को बनाये रखने की जरूरत बतायी। प्रारंभ में स्मार्ट सिटी भोपाल के जी.आई.एस. पोर्टल, स्मार्ट पोल और स्मार्ट साइकिलिंग सुविधाओं का उन्होंने लोकार्पण किया। श्री चौहान ने कहा कि शीघ्र ही वे भी साइकिलिंग सुविधाओं का उपयोग करेंगे।
नगर निगम आयुक्त श्रीमती छवि भारद्वाज ने बताया कि भोपाल स्मार्ट सिटी में तात्या टोपे नगर पुनर्विकास प्लान की दूसरी वर्षगाँठ मनाई जा रही है। उन्होंने स्मार्ट सिटी भोपाल के कुल 342 एकड़ क्षेत्रफल कार्यरूप के आकल्पन की प्रस्तुति दी। कार्यक्रम में लघु चल-चित्र का प्रदर्शन भी किया गया।
कार्यक्रम में नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह, महापौर श्री आलोक शर्मा, सांसद श्री आलोक संजर, विधायक श्री सुरेंद्र नाथ सिंह, विधायक श्री विष्णु खत्री, निगम के अध्यक्ष  डॉक्टर सुरजीत सिंह चौहान, नागरिक आपूर्ति निगम के अध्यक्ष डॉक्टर हितेश वाजपेई, भोपाल विकास प्राधिकरण के अध्यक्ष श्री ओम यादव, प्रदेश भाजपा उपाध्यक्ष श्री बृजेश लुणावत, भोपाल स्मार्ट सिटी डेव्लपमेंट कार्पोरेशन के चेयरमेन कलेक्टर श्री सुदामा खाड़े, जनप्रतिनिधि, गणमान्य नागरिक, नगर निगम के पदाधिकारी, अधिकारी उपस्थित थे