Website Hosting & Domain in Bhopal

Monday, 15 January 2018

नियमित मॉनीटरिंग स्वच्छता सर्वेक्षण कार्य की जाए - श्रीमती माया सिंह


नियमित मॉनीटरिंग स्वच्छता सर्वेक्षण कार्य की जाए - श्रीमती माया सिंह नगरीय विकास एवं आवास मंत्री श्रीमती माया सिंह ने कहा है कि मध्यप्रदेश शत-प्रतिशत नगरीय निकायों से डोर-टू-डोर कचरा कलेक्शन करने वाला देश का पहला राज्य बन गया है। स्वच्छ भारत अभियान में भारत सरकार द्वारा कराये जा रहे स्वच्छता सर्वेक्षण अभियान की मॉनीटरिंग कड़ाई से की जाये, जिससे प्रदेश में किये जा रहे प्रयासों से मध्यप्रदेश देश में पुन: नई पहचान बना सके। उन्होंने यह बात मंत्रालय में स्वच्छ भारत अभियान-2018 की समीक्षा बैठक में कही। श्रीमती माया सिंह ने कहा कि स्वच्छ भारत अभियान में नगरीय क्षेत्र में उल्लेखनीय प्रगति दर्ज की गई है। शत-प्रतिशत नगरीय क्षेत्रों में खुले में शौच की कुप्रथा से मुक्ति दिलाने के बाद डोर-टू-डोर कचरा प्रबंधन का कार्य किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि नगरीय क्षेत्रों में निजी जन-भागीदारी से ठोस अपशिष्ट प्रबंधन का कार्य लैण्डफिल साइट एवं प्र-संस्करण द्वारा किया जा रहा है। यह कार्य निर्धारित समय-सीमा में पूर्ण कराये जायें। उन्होंने कहा कि ठोस अपशिष्ट प्रबंधन में क्लस्टर बनाते समय नगरीय निकायों के बीच की दूरी पर विशेष ध्यान दिया जाये, जिससे एक दिन में ही कचरा मुख्य संग्रहण केन्द्रों तक पहुँच सके। उन्होंने ठोस अपशिष्ट प्रबंधन केन्द्रों की प्रगति की साप्ताहिक रिपोर्ट प्राप्त करने के निर्देश भी दिये। उन्होंने कहा कि कचरा संग्रहण का कार्य अवकाश के दिनों में भी जारी रखा जाये। प्रमुख सचिव श्री विवेक अग्रवाल ने बताया कि स्वच्छता सर्वेक्षण-2018 पूरे देश के साथ प्रदेश में भी जारी है। प्रथम चरण में 26 निकायों का सर्वेक्षण पूर्ण हो चुका है। शेष निकायों में सर्वेक्षण द्वितीय चरण में किया जायेगा। स्वच्छता सर्वे और डोर-टू-डोर कलेक्शन कार्य की नियमित समीक्षा भोपाल-स्तर से की जा रही है। सभी 51 जिलों के लिये एक-एक नोडल अधिकारी नियुक्त किये गये हैं। श्री अग्रवाल ने बताया कि निजी जन-भागीदारी आधारित ठोस अपशिष्ट प्रबंधन योजना में 26 क्षेत्रीय इकाइयों में से 6 इकाइयों में विद्युत उत्पादन इकाइयाँ स्थापित की जायेंगी। इनके माध्यम से 65 मेगावॉट विद्युत उत्पादन का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। शेष 20 इकाइयों से कचरे से जैविक खाद बनाया जाना प्रस्तावित है।

राज्य उच्च शिक्षा परिषद की पाँचवीं बैठक मंत्री श्री पवैया की अध्यक्षता में हुई


राज्य उच्च शिक्षा परिषद की पाँचवीं बैठक मंत्री श्री पवैया की अध्यक्षता में हुई उच्च शिक्षा मंत्री श्री जयभान सिंह पवैया ने कहा है कि प्रदेश में उच्च शिक्षण संस्थानों में गुणवत्ता सुधार कर उन्हें राष्ट्रीय स्तर पर पहचान दिलाने के प्रयास किये जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि शिक्षण संस्थान की लायब्रेरी और लेब में सुधार के लिये भी विशेष अभियान की आवश्यकता है। उच्च शिक्षा मंत्री श्री पवैया आज मंत्रालय में राज्य उच्च शिक्षा परिषद की पाँचवीं बैठक में बोल रहे थे। बैठक में राष्ट्रीय उच्चतर शिक्षा अभियान (रूसा) में किये गये कार्यों की समीक्षा की गई। बैठक में अपर मुख्य सचिव उच्च शिक्षा श्री दीपक खांडेकर और शिक्षाविद् भी मौजूद थे। उच्च शिक्षा मंत्री ने कहा कि लेग्वेंज लेब में केवल अंग्रेजी सुधार के लिए ही काम न हो बल्कि हिन्दी समेत अन्य भाषाओं के ज्ञान के विकास के लिए काम किया जाना चाहिये। उन्होंने उच्च शिक्षण संस्थानों में केन्द्र और राज्य सरकार से मिलने वाली आर्थिक सहायता राशि का समय पर उपयोग किये जाने के निर्देश दिये। बताया गया कि प्रदेश में वर्ष 2003 में 311शासकीय महाविद्यालय और 447 अशासकीय महाविद्यालय हुआ करते थे, जो बढ़कर वर्ष 2017 में 469 और 914 हो गये हैं। ग्रामीण क्षेत्रों तक उच्च शिक्षा की पहुंच सुनिश्चित करने के उद्देश्य से महाविद्यालय खोले जाने के प्रयास किये जा रहे हैं। बताया गया कि रूसा परियोजना में विभिन्न कम्पोनेंट में 269 करोड़ की राशि का अनुमोदन किया गया है। नेक से हुए मूल्यांकन के बाद बी ग्रेड के 33 कॉलेजों और 3 विश्वविद्यालयों को आर्थिक मदद देने के लिये अनुमोदित किया गया है। बैठक में बताया गया कि पं. एस.एन. शुक्ला विश्वविद्यालय शहडोल को 55 करोड़ रुपये की अनुदान राशि जारी की गई है। राशि से स्वीकृत सभी कार्य अक्टूबर 2018 तक पूरे कर लिये जाएंगे। शिक्षाविदों ने सुझाव दिया कि संभाग के कम से कम एक उच्च शिक्षण संस्थान में राष्ट्रीय स्तर की विषय विशेष पर कार्यशाला हो। कार्यशाला में मिलने वाले सुझाव का उपयोग गुणवत्ता सुधार के लिये किया जाये। आयुक्त उच्च शिक्षा श्री नीरज मंडलोई ने बताया कि विभाग में टीचिंग स्टाफ की कमी को दूर करने के लिये जून 2018 तक 3000 सहायक प्राध्यापकों की भर्ती प्रक्रिया को पूरा कर लिया जायेगा। बैठक में शिक्षाविद डॉ. देवेन्द्र दीपक, डॉ. प्रकाश बरतुनिया, डॉ.चित्रलेखा चौहान, डॉ. शशि राय, एस.एन. शुक्ला विश्वविद्यालय के कुलपति श्री मुकेश तिवारी मौजूद थे।

खराब रोशनी के कारण पूरा नहीं हुआ खेल, अफ्रीका को 118 रन की बढ़त


खराब रोशनी के कारण पूरा नहीं हुआ खेल, अफ्रीका को 118 रन की बढ़त टीम इंडिया और दक्षिण अफ्रीका के बीच जारी सेंचुरियन टेस्ट के तीसरे दिन का खेल पहले बारिश और फिर खराब रोशनी के कारण पूरा नहीं हो सका। टीम इंडिया की पहली पारी 307 रन पर ऑलआउट होने के बाद दक्षिण अफ्रीका ने स्टंप्स तक अपनी दूसरी पारी में 29 ओवर में 2 विकेट खोकर रन 90 रन बना लिए हैं। डीन एल्गर 36* और एबी डीविलियर्स 50* रन बनाकर क्रीज पर जमे हुए हैं। दक्षिण अफ्रीका की बढ़त अब 118 रन की हो चुकी है। दक्षिण अफ्रीका की दूसरी पारी में शुरुआत लचर रही। तेज गेंदबाज जसप्रीत बुमराह ने दूसरे ओवर में पहली पारी के हीरो एडेन मार्करम (1) को LBW आउट किया। इसके बाद आए हाशिम अलमा को भी उन्होंने ज्यादा देर तक क्रीज पर जमने का मौका नहीं दिया और महज 1 रन के स्कोर पर LBW आउट किया। इससे पहले विराट कोहली (153) की बेहतरीन पारी की बदौलत सोमवार को दूसरे टेस्ट के तीसरे दिन टीम इंडिया की पहली पारी लंच के बाद 91.1 ओवर में 307 रन बनाकर ऑलआउट हुई।कप्तान कोहली ने 217 गेंदों में 15 चौको की मदद से 153 रन बनाए। वह आउट होने वाले आखिरी बल्लेबाज रहे। मोर्केल ने लांगऑन पर डीविलियर्स के हाथों कैच आउट कराकर विराट सहित भारतीय पारी का अंत किया। दक्षिण अफ्रीका को इस तरह पहली पारी के आधार पर 28 रन की महत्वपूर्ण बढ़त मिली है। बता दें कि दक्षिण अफ्रीका की पहली पारी 335 रन पर सिमटी थी। सेंचुरियन में टीम इंडिया ने तीसरे दिन अपनी पारी 185/5 के स्कोर से आगे बढ़ाई। भारतीय कप्तान विराट कोहली ने एक छोर संभाले रखा और प्रोटियाज गेंदबाजों की जमकर खबर ली। उन्होंने दिन के छठे ओवर की पहली गेंद पर अपना सैकड़ा पूरा किया। कोहली ने लुंगी एनगिडी द्वारा किए पारी के 67वें ओवर की पहली गेंद पर मिडविकेट की दिशा में एक रन लेकर अपने टेस्ट करियर का 21वां शतक पूरा किया। उन्होंने 146 गेंदों में 10 चौको की मदद से सैकड़ा पूरा किया। दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ कोहली ने दूसरा टेस्ट शतक जमाया। विराट कोहली के शतक का जश्न मनाए समय पूरा भी हुआ नहीं था कि हार्दिक पांड्या (15) गलती कर बैठे और रनआउट होकर पवेलियन लौट गए। दरअसल, पांड्या ने रबाडा की गेंद पर मिडऑन की दिशा में हलके हाथों से शॉट खेलकर एक रन लेने का प्रयास किया। कोहली ने मना किया। पांड्या को अपने एंड पर लौटना पड़ा। फिलेंडर ने डायरेक्ट हिट मारी और रीप्ले में दिखा कि पांड्या का पैर हवा में रह गया और गेंद उससे पहले स्टंप पर जा लगी। फिर कोहली को रविचंद्रन अश्विन (38) का अच्छा साथ मिला। दोनों ने मिलकर सातवें विकेट के लिए 71 रन की साझेदारी की। दक्षिण अफ्रीका ने फिर नई गेंद ली और फिलेंडर ने पहले ही ओवर में इसका कमाल बिखेरा। उन्होंने अश्विन को दूसरी स्लिप में कप्तान फाफ डू प्लेसी के हाथों झिलवाया। प्लेसी ने शानदार कैच लपका। अगले ही ओवर में मोर्ने मोर्केल ने मोहम्मद शमी (1) को पहली स्लिप में हाशिम अमला के हाथों कैच आउट कराया। यहां से कोहली ने इशांत शर्मा (3) के साथ 25 रन जोड़े। फिर मोर्केल ने इशांत का कैच मार्करम के हाथों कराकर टीम इंडिया का 9वां विकेट गिराया। मोर्केल ने लांगऑन पर डीविलियर्स के हाथों कैच आउट कराकर विराट सहित भारतीय पारी का अंत किया। दक्षिण अफ्रीका की तरफ से मोर्ने मोर्केल ने सर्वाधिक चार विकेट लिए। केशव महाराज, वेर्नोन फिलेंडर, कागिसो रबाडा और लुंगी एनगिडी को एक-एक विकेट मिला। इससे पहले टीम इंडिया ने दूसरे दिन दक्षिण अफ्रीका की पहली पारी 335 रन पर समेटी। इसके बाद टीम इंडिया की शुरुआत खराब रही और केएल राहुल (10) व चेतेश्वर पुजारा (0) जल्दी-जल्दी आउट हुए। यहां से मुरली विजय (46) और कप्तान विराट कोहली ने पारी संभालते हुए तीसरे विकेट के लिए 79 रन की साझेदारी की।

भारत के लिए इजरायल का एंटी टैंक मिसाइल स्पाइक डील का खास प्रस्ताव


भारत के लिए इजरायल का एंटी टैंक मिसाइल स्पाइक डील का खास प्रस्ताव नई दिल्ली, जयप्रकाश रंजन। इजरायल की एंटी टैंक मिसाइल स्पाइक को लेकर भारत ने अपने दरवाजे पूरी तरह से बंद नहीं किये हैं। हो सकता है कि दोनों देशों के बीच स्पाइक मिसाइल की खरीद बिक्री के लिए नए सिरे से बातचीत हो। इजरायल इस मिसाइलों का निर्माण भारत के साथ मिल कर करने को तैयार है। माना जा रहा है कि सौदे को बचाने के लिए स्पाइक मिसाइल बनाने वाली इजरायल की कंपनी राफेल एडवांस डिफेंस सिस्टम लिमिटेड ने बेहद आकर्षक प्रस्ताव किया है। संभावना इस बात की है कि भारत पहले के मुकाबले कम स्पाइक मिसाइलें खरीदे। सरकारी सूत्रों ने बताया कि भारत व इजरायल के बीच सोमवार को हुई आधिकारिक उच्चस्तरीय वार्ता में पीएम नेतन्याहू ने स्पाइक डील का मुद्दा उठाया। उन्होंने इजरायल का पक्ष रखा, जबकि भारतीय पक्ष ने भी इस सौदे को लेकर अपनी सारी बातें सामने रखी। अभी इस बारे में आगे और विचार विमर्श होगा। इजरायल के पीएम नेतन्याहू के साथ स्पाइक मिसाइल बनाने वाली कंपनी के सीईओ भी भारत आये हुए हैं। उनकी बातचीत भी अलग स्तर पर हुई है। भारत घरेलू तकनीकी पर आधारित एंटी टैंक मिसाइल बनाने का काम तेज कर चुका है, लेकिन सेना में उसके शामिल होने में देरी को देखते हुए स्पाइक पर नए सिरे से विचार किया जा रहा है।

तोगड़िया अहमदाबाद में बेहोशी की हालत में मिले, अस्पताल में कराया गया भर्ती


तोगड़िया अहमदाबाद में बेहोशी की हालत में मिले, अस्पताल में कराया गया भर्ती विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के सोमवार सुबह से गायब नेता प्रवीण तोगड़िया शाम को करीब 11 घंटे बाद अचेत अवस्था में मिले हैं. वह अहमदाबाद के शाहीबाग इलाके में मिले हैं. उन्हें चंद्रमणि अस्पताल में भर्ती कराया गया है. तोगड़िया का इलाज कर रहे डॉ. आरएम अग्रवाल ने कहा है कि तोगड़िया को बेहोशी की हालत में भर्ती कराया गया था. उनकी शुगर कम हो गई थी और इसी वजह से वह बेहोश हो गए थे. उन्होंने बताया कि तोगड़िया को एंबुलेस अस्पताल लेकर आई थी. डॉ. अग्रवाल ने कहा है कि अब उनकी हालत पहले से बेहतर है. वीएचपी प्रवक्ता विनोद बंसल ने कहा है, 'पूरे देश में कार्यकर्ता तोगड़िया को लेकर चिंतित थे. किसी को पता नहीं था कि वह कहां गए. हमने सभी कार्यकर्ताओं से धैर्य बनाए रखने की अपील की थी.' इससे पहले, तोगड़िया की कथित गिरफ्तारी पर सोमवार को अहमदाबाद में हंगामा हुआ. वीएचपी कार्यकर्ताओं ने उनके गायब होने के विरोध में अहमदाबाद, गांधीनगर, सूरत, राजकोट, मोरबी और नर्मदा में विरोध प्रदर्शन किया. वीएचपी कार्यकर्ताओं का कहना था कि राजस्थान पुलिस तोगड़िया को गिरफ्तार करके ले गई थी. अहमदाबाद के जॉइंट पुलिस कमिश्नर जेके भट्ट ने कहा था कि तोगड़िया को न गुजरात पुलिस ने गिरफ्तार किया और न राजस्थान पुलिस ने गिरफ्तार किया. राजस्थान पुलिस ने भी तोगड़िया की गिरफ्तारी से इनकार किया था. वहीं, अहमदाबाद पुलिस ने कहा था कि तोगड़िया की तलाश की जा रही थी. अहमदाबाद पुलिस क्राइम ब्रांच ने सोमवार शाम को इस मामले में प्रेस कॉन्फ्रेंस की. इसमें कहा गया है कि प्रवीण तोगड़िया की तलाश की जा रही है. पुलिस के मुताबिक तोगड़िया विश्व हिंदू परिषद के मुख्यालय से सुबह 10:45 पर निकले थे. वह एक रिक्शे से निकले थे. पुलिस के मुताबिक तोगड़िया खुद ही रिक्शे में बैठकर वीएचपी दफ्तर से निकले थे. उन्होंने अपने सुरक्षा कर्मी को भी साथ आने से मना कर दिया था. पुलिस से जब पूछा गया कि क्या तोगड़िया अंडररग्राउंड हो गए हैं तो उन्होंने कहा, 'हम यह नहीं कह रहे हैं, लेकिन इतना साफ है कि वह अकेले ही रिक्शे में बैठकर निकले हैं.' अहमदाबाद पुलिस का कहना है कि पाडली ऑफिस की सीसीटीवी फुटेज तलाशी जा रही हैं. यहीं तोगड़िया को आखिरी बार देखा गया था. पुलिस ने कहा है कि उन्हें इस मामले में तोगड़िया के परिवार की ओर से अब तक गुमशुदगी की कोई रिपोर्ट नहीं मिली है.

UIDAI की बड़ी पहल, आधार वेरिफिकेशन अब आपके चेहरे से भी हो सकेगा


UIDAI की बड़ी पहल, आधार वेरिफिकेशन अब आपके चेहरे से भी हो सकेगा नई दिल्ली: भारतीय विशिष्ट पहचान प्राधिकार (UIDAI) ने चेहरे के जरिये आधार कार्ड के वेरिफिकेशन की अनुमति दी है. अब 1 जुलाई, 2018 से लोगों के रजिस्टर्ड डिवाइस पर फ्यूजन मोड में फेस ऑथेंटिकेशन की सुविधा मुहैया कराई जाएगी, ताकि लोगों को बायोमीट्रिक पहचान में हो रही मुश्किलों से छुटकारा मिल सके. इससे उन लोगों को भी राहत मिलेगी, जो कठिन मेहनत वाले हालात या अंगुलियों के निशान धूमिल या किसी अन्य वजह से फिंगरप्रिंट की पहचान नहीं करा पा रहे थे. अभी UIDAI पहचान के लिए दो तरीके इस्तेमाल करती है- फिंगरप्रिट और आंख की पुतली, जिससे कुछ लोगों की पहचान में परेशानी होती है. अब आधार वेरिफिकेशन के लिए एक नया तरीका और जुड़ गया है. आधिकारिक बयान में कहा गया है कि यह नई सुविधा वेरिफिकेशन के मौजूदा तरीकों के साथ उपलब्ध होगी यह नई सुविधा 1 जुलाई, 2018 से उपयोग के लिए उपलब्ध होगी. बयान के अनुसार, 'जो लोग वृद्धावस्था, कठिन मेहनत वाले हालात या अंगुलियों के निशान धूमिल होने जैसे हालात के कारण अपने आधार का बायोमेट्रिक तरीके से सत्यापन नहीं करवा पा रहे, यह नई सुविधा उनके लिए मददगार साबित होगी.' UIDAI का कहना है कि सत्यापन की यह नई सुविधा ‘जरूरत के हिसाब’ से उपलब्ध होगी.

Sunday, 14 January 2018

यात्रियों की जेब पर भारतीय रेलवे का ये फैसला भारी पड़ेगा


यात्रियों की जेब पर भारतीय रेलवे का ये फैसला भारी पड़ेगा नई दिल्ली: रेलवे के क्लॉक रूम और लॉकरों का इस्तेमाल करने वाले यात्रियों को इस सुविधा का लाभ उठाने के लिए अब ज्यादा भुगतान करना पड़ेगा। रेलवे बोर्ड ने अब मंडल रेल प्रबंधकों (डीआरएम) को स्टेशनों पर इस सुविधा का शुल्क बढ़ाने का अधिकार दे दिया है। सेवा को आधुनिक बनाने के लिए शीघ्र ही बोली लगाने की प्रक्रिया शुरू की जाएगी। जिसमें कम्प्यूटरीकृत माल सूची शामिल होगी और सालाना मूल्य बढ़ाने की अनुमति होगी। वर्तमान में रेलवे 24 घंटे के लिए लॉकर के इस्तेमाल के लिए यात्रियों से 20 रुपए का शुल्क है और प्रत्येक अतिरिक्त 24 घंटे के लिए 30 रुपए वसूले जाते हैं। पहले यह मूल्य 15 रूपए था वहीं क्लॉकरूम का शुल्क 24 घंटे के लिए 15 रुपए है। वर्ष 2000 में यह सात रुपए था और प्रत्येक अतिरिक्त 24 घंटे के लिए यात्रियों से 20 रुपए लिए जाते हैं। इससे पहले यह शुल्क 10 रुपए था। नई नीति के अनुसार , ‘‘यह निर्णय लिया गया है कि स्थानीय स्थितियों के अनुसार डीआरएमों को क्लॉक रूमों और लॉकरों के किराये बढ़ाने के पूरे अधिकार होंगे।’’ आधुनिकीकरण के लिए खर्च होंगे 1 लाख 20 हजार करोड़ वर्तमान वित्त वर्ष में रेलवे में सुधार और आधुनिकीकरण के लिए 1,20,000 करोड़ रुपए खर्च किए जा रहे हैं। अगले वित्त वर्ष में इससे भी ज्यादा राशि खर्च की जाएगी। केंद्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल ने एक प्रश्न का उत्तर देते हुए इसकी जानकारी दी थी। उन्होंने बताया था कि इस साल सरकार रेलवे में सुधार और आधुनिकीकरण के लिए 1.20 लाख करोड़ रुपए की राशि आवंटित की जाएगी।