भोपाल ईस्ट और भोपाल वेस्ट होने वाले है भोपाल के दो हिस्से

157

 

मध्य प्रदेश के भोपाल शहर में दो नगर निगम का बनना अब तय हो गया है. भोपाल ईस्ट और भोपाल वेस्ट. बढ़ती जनसंख्या और विकास के मद्देनजर दो नगर निगम बनाने का प्रस्ताव तैयार किया गया है. बीजेपी नेताओं के तमाम विरोधों के बाद भी राज्य सरकार ने भोपाल में दो नगर निगम बनाने का प्रस्ताव राज्यपाल को मंजूरी के लिए भेज दिया है. राज्यपाल के मुहर लगाने के बाद राजधानी में दो नगर निगम बनाने की अधिसूचना जारी होगी. भोपाल शहर के बंटवारे को लेकर बीजेपी के तमाम दिग्गज नेताओं ने सड़क से लेकर राजभवन तक कई बार ज्ञापन देकर अपना विरोध दर्ज कराया था. लेकिन कमलनाथ सरकार ने अब दो नगर निगमों का प्रस्ताव राज्यपाल की मंजूरी के लिए भेजकर अपने कदम से पीछे हटने से इनकार कर दिया है.Bhopal-two-municipal-corporations

निकाय चुनाव को अप्रत्यक्ष तरीके से कराए जाने के सरकार के प्रस्ताव को मंजूरी देने वाले राज्यपाल लालजी टंडन इस प्रस्ताव को अटकाएंगे, इसकी संभावना कम है. ये लगभग तय है कि अगले दो से तीन दिन में भोपाल शहर के बंटवारे और दो नगर निगम बनाने जाने के प्रस्ताव को मंजूरी मिल जाएगी.

भोपाल शहर के बंटवारे को लेकर बीजेपी कहती आ रही है कि जातिगत आधार पर सरकार शहर का बंटवारा करने की कोशिश में है. इसका पार्टी विरोध जारी रखेगी.

कुछ इस तरह होगा बंटवारा

– भोपाल नगर निगम के 85 वार्ड को प्रस्ताव के तहत भोपाल ईस्ट और भोपाल वेस्ट दो अलग-अलग नगर निगम बनेंगे

– भोपाल ईस्ट में 31 वार्ड होंगे. कोलार, बावड़िया, मिसरोद, बागमुगालिया, कटारा, भेल, अयोध्या नगर, भानपुर और करोंद का इलाका शामिल होगा

– भोपाल वेस्ट नगर निगम में 54 वार्ड होंगे. पुराना और नए शहर के वार्ड शामिल होंगे

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here