बाज़ार बंद, जनता कर्फ़्यू ,व्यावसायिक क्षेत्र बंद, कार्यालय बंद ,जनता द्वारा ख़ुद को लॉक डाउन, आयोजन बंद ,समारोह बंद

25

भोपाल विमान तल पर कोरोना वायरस के संदिग्ध मिलने पर कार्यवाहक मुख्यमंत्री कमलनाथ ने प्रदेश के मुख्य सचिव व डीजीपी से की चर्चा, कहा तत्काल एहतियातन सभी आवश्यक कदम उठाये जाये। आवश्यक चीजों को छोड़कर जनता की सुरक्षा को देखते हुए भोपाल को लॉक डाउन किया जावे। यदि शुरुआत में ही सावधानी बरती जाये और इस बीमारी की रोकथाम के लिये आवश्यक कदम उठा लिये जाये तो इसे फैलने से रोका जा सकता है।जनता के स्वास्थ्य की सुरक्षा को देखते हुए तत्काल सभी आवश्यक इंतजाम किए जाये व आवश्यक कदम उठाये जावे।

इस संक्रामक बीमारी से लोगों को बचाने के लिए किसी भी प्रकार की कोताही नहीं बरती जाए।इस बीमारी से रोकथाम के लिए जनता में ज्यादा से ज्यादा जन जन जागरूकता के संदेश प्रसारित किए जाएं। भीड़भाड़ वाले क्षेत्र में जाने से जनता ख़ुद को बचाये , खुद को ज्यादा समय घर में ही रखें , इस बीमारी से संदिग्ध व्यक्ति की जानकारी मिलते ही तुरंत सूचित करें। इस बीमारी से बचाव के लिए एहतियातन सभी आवश्यक कदम उठाएं , सावधानी से ही इस बीमारी से बचा जा सकता है।

कार्यवाहक मुख्यमंत्री कमलनाथ ने कहा है कि मै एक बार फिर दोहराता हुँ कि कोरोना वायरस के फैलाव को रोकने को लेकर सुरक्षा की दृष्टि से उठाये कदमो व निर्णयों से छोटे खुदरा व्यवसायियों व रोज कमाकर अपना जीवन यापन करने वालों के नुकसान को लेकर मै बेहद चिंतित हूँ।उनके नुक़सान की भरपाई हो , उनके लिये राहत पेकेज का इंतज़ाम अगली सरकार करे।

नाथ ने कहा है कि नोवल कोरोना वायरस से बचाव व सुरक्षा के लिये एहतियातन कई क़दम उठाये जा रहे है व कई निर्णय लिये जा रहे है। जिसमें बाज़ार बंद, जनता कर्फ़्यू ,व्यावसायिक क्षेत्र बंद, कार्यालय बंद ,जनता द्वारा ख़ुद को लॉक डाउन, आयोजन बंद ,समारोह बंद जैसे निर्णय सावधानी बतौर लिये जा रहे है।

इन निर्णयों से बड़े व्यवसायी तो एक बार ख़ुद को इस संकट से उबार लेंगे लेकिन वो ग़रीब खुदरा -छोटे -मध्यम व्यवसायी , दिहाड़ी मज़दूर और वो व्यवसायी जो प्रतिदिन कमाकर अपना जीवन यापन करते है , घर चलाते है , उनको होने वाली आर्थिक क्षति को लेकर मैं बेहद चिंतित हूँ।

चूँकि एक कार्यवाहक मुख्यमंत्री के रूप में, अब मै कोई नीतिगत निर्णय नहीं ले सकता हूँ, इसलिये मै आगामी सरकार से ही उम्मीद कर सकता हूँ कि इन छोटे-छोटे व्यवसायियों को होने वाली आर्थिक क्षति व नुकसान की भरपाई वो आते ही करे। इनके लिये एक राहत पैकेज की घोषणा करे। क्योंकि उनके लिये यह दोहरी मार है। एक तरफ़ तो व्यवसाय चौपट दूसरा जीवन यापन के लिये आवश्यक ख़र्च का इंतज़ाम।

नाथ ने कहा कि मुझे आशा व विश्वास है कि आने वाली सरकार छोटे-छोटे खुदरा व्यवसायियों , पान वाले , चाय वाले , ठेले वाले , गुमटी वाले , फुटपाथ पर व्यवसाय करने वालों, हाकर बाज़ार में व्यवसाय करने वालों, छोटे होटल वाले, दिहाड़ी मज़दूर व प्रतिदिन कमाकर अपना जीवन यापन करने वाले इन लोगों के हितों की चिंता करेगी व इनके नुक़सान की भरपाई करेगी , इनके लिये एक सम्मानजनक राहत पैकेज की घोषणा करेगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here