कम्प्यूटर बाबा को बनाया नदी न्यास का अध्यक्ष,आदेश में सालभर पुरानी तारीख पडऩे से नियुक्ति उलझन में पड़ी

192

भोपाल
 प्रदेश सरकार ने लोकसभा चुनाव की आचार संहिता लागू होने से पहले नामदेव दास त्यागी (कम्प्यूटर बाबा) को नदी न्यास का अध्यक्ष नियुक्त किया है,लेकिन उनके नियुक्ति आदेश में सालभर पुरानी तारीख डलने से उनकी नियुक्ति उलझन में पडऩे के आसार हैं। 
 सूत्रों के अनुसार, कम्प्यूटर बाबा को नदी न्यास का अध्यक्ष बनाए जाने संबंधी आदेश 8 मार्च का निक ाला गया लेकिन इसमें वर्ष 2018 अंकित हो गया। यह आदेश अध्यात्म विभाग के उपसचिव किरण मिश्रा के हस्ताक्षर से जारी हुआ। रविवार शाम को चुनाव की घोषणा के साथ ही आचार संहिता लागू हो गई है। बताया जाता है,कि इससे पहले बाबा के नियुक्ति आदेश में कोई संशोधन भी नहीं किया गया। अब ऐसे में उनकी नियुक्ति उलझन में पड़ गई है। अब  इसे लिपिकीय त्रुटि बताया जा रहा है।
दरअसल, राज्य सरकार ने पिछले दिनों मां नर्मदा, मां क्षिप्रा और मां मंदाकिनी नदी न्यास का गठन किया है। न्यास इन नदियों के संरक्षण की दिशा में काम करेगा। साथ ही नदियों के दोनों तटों पर पौधरोपण का काम भी अपनी निगरानी में करवाएगा।
मालूम हो, कम्प्यूटर बाबा को तत्कालीन शिवराज सरकार में राज्यमंत्री का दर्जा दिया गया था, लेकिन उन्होंने बाद में इस्तीफ ा दे दिया था। कांग्रेस सरकार बनने के बाद कम्प्यूटर बाबा ने मंत्रालय पहुंचकर पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह सहित अन्य मंत्रियों से मुलाकात की थी। सूत्रों के मुताबिक, बाबा ने शिवराज सरकार के खिलाफ नर्मदा नदी में हो रहे अवैध उत्खनन और पौधरोपण का मुद्दा उठाया था। बताया जा रहा है कि कम्प्यूटर बाबा नदी संरक्षण के लिए न्यास के माध्यम से सरकार को सलाह देंगे। इसके अलावा जनजागरण का काम भी न्यास करेगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here