महापौर का चुनाव अप्रत्यक्ष तरीके से, जनता में ख़ुशी

139

 

महापौर का चुनाव अप्रत्यक्ष तरीके होने पर जनता में ख़ुशी समाजसेवी अनुपम तिवारी का कहना है कि अभी तक पार्टी दलों के द्वारा महापौर उम्मीदवार थोप दिया जाता है विकल्प की कमी के चलते अधिकतर बार अयोग्य, अति महत्वाकाक्षी व्यक्ति को विजय मिल जाती थी जो निरंकुश होकर केवल व्यक्तिगत और परिवारिक लाभ लालसा के कारण नगरीय क्षेत्र का विकास नहीं कर सके। अब चुकि उनका चयन पुरे नगरीय निकाय में चयनित पार्षदों के बीच में से होगा तो उम्मीद है कि अब वो निरंकुश न होकर अब ज्यादा जिम्मेदारी के साथ शहर के विकास पर कार्य कर सके

अभी मध्यप्रदेश जनता सीधे महापौर को चुनती थी, लेकिन इस फैसले के बाद अप्रत्यक्ष तरीके से महापौर और नगर निगम के सभापति का चुनाव होगा. वहीं परिसीमन का काम भी चुनाव से दो महीने पहले पूरा हो जाएगा. इसके अलावा अगर कोई शख्स पार्षद का चुनाव लड़ रहा है तो अब उसे राज्य निर्वाचन आयोग से जानकारी छुपानी महंगा पड़ेगी. इसके तहत 6 महीने की सजा और 25 हजार का जुर्माना भी भरना पड़ेगा

कांग्रेस सरकार ने स्थानीय नगरीय निकायों के अध्यक्ष या महापौर का चुनाव अप्रत्यक्ष तरीके से कराने के लिए मंजूरी दे दी है। वहीं भाजपा ने इस पर नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि इससे लोकतंत्र कमजोर होगा। प्रदेश के जनसंपर्क मंत्री पीसी शर्मा ने बुधवार को बताया कि मुख्यमंत्री कमलनाथ की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट की बैठक में प्रदेश में होने वाले स्थानीय नगरीय निकायों के महापौर पद के चुनाव को अप्रत्यक्ष तौर पर करने के प्रस्ताव को मंजूरी प्रदान की गई है। मालूम हो कि अब तक प्रदेश में स्थानीय नगर निकायों के अध्यक्ष या महापौर का चुनाव प्रत्यक्ष तौर पर अर्थात मतदाताओं द्वारा सीधे चुना जाता था। नयी नीति के तहत अब इन पदों पर शहर के चुने गये वार्ड पार्षदों द्वारा मतदान से चुनाव किया जायेगा।

प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने संवाददाताओं से कहा कि कांग्रेस राज्य भर में अप्रत्यक्ष रूप से मेयर चुनाव के लिये जा रही है क्योंकि वह जानती है कि प्रत्यक्ष चुनाव उसके लिये महंगे साबित होंगे। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव में प्रदेश की 29 में से 28 लोकसभा सीटों पर कांग्रेस की हार हुई है। उन्होंने कहा कि लोकतंत्र को कमजोर करने के लिए वे येन-केन प्रकारण अपने लोगों के लिये नगरीय निकायों के प्रमुख या मेयर का पद हासिल करना चाहते हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here